28 अप्रैल को विधानसभा के पूर्ण सत्र के दौरान 40-0 मतों से विधेयक को मंजूरी दी गई थी।



Source link